Login Here

Pupils Login Form

 



विश्वविद्यालय का संक्षिप्त परिचय

डॉ बी आर अम्बेडकर विश्वविद्यालय की नींव रेव कैनन ऐडवर्ड्स की तरह उत्साही शिक्षाविदों के एक बैंड के व्यस्त प्रयासों का एक परिणाम के रूप में, 1 जुलाई 1927 पर रखी गई थी

आगे पढ़ें »

महाविद्यालय का संक्षिप्त परिचय

परम विख्यात महान तेजस्वी प्रतापी महर्षि कपिलमुनि के सुनाम पर संचालित भारतीय महाविधालय की आधार शिला व सुस्थापना का स्वपन महाविधालय संस्थापक एवं सचिवप्रबंधक..

आगे पढ़ें »

क्यों तुम्हें हमारे साथ अध्ययन करना चाहिए

विधार्थियों के स्वाध्याय हेतु पुस्तकालय की उचित व्यवस्था है जिसमें विधार्थी रिक्त कक्षाओं में एकान्तचित होकर स्वाध्याय करते हैं। पुस्तकालय में विधार्थियों के विषय संबंधी व प्रतिस्पर्धा..

आगे पढ़ें »

शिक्षा और छात्र अनुभव

शिक्षा प्रणालियों शिक्षा और प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए, अक्सर छात्रों और युवाओं के लिए स्थापित की जाती है एक पाठ्यक्रम (curriculum) छात्रों को क्या पता होना चाहिए,

आगे पढ़ें »

अंतर्राष्ट्रीय छात्र

विदेशी छात्रों को तभी प्रवेश दिया जायेगा जबकि उनके पास स्टूडेण्ट वीसा हो और भारत सरकार के गृह मंत्रालय द्वारा प्रदेश सरकार के विदेशी रजिस्टे्रशन विभाग द्वारा स्वीकृत हो।

आगे पढ़ें »

सामान्य नियम

प्राचार्य प्राचार्या के प्रदेश के मामलें में डा. बी.आर. अम्बेडकर विश्ववि़धालय (आगरा विश्वविधालय) की विवरण पुसितका अध्याय के नीचे उदघृत 2 ए के अनुसार कर्तव्य और अधिकार होगें।
Subject to the order issued under sub section (4) of section 28 of the Act. The principal shelf be the sole authority of admit of refuse to admit any applicant to any class in his college. He shall however duly and strictly follow the norms and principles, if any laid down by the University and such other directions as by be given to him from time by the University.
“Provided that the Principal may at his discretion refust to admit a candidate even if he is entitled for admission according to norms and principles laid down by the University and shall report all such cases to the admission committee forthwith”
प्रवेश निरस्तीकरण एवं निषेध
1. जो छात्र छात्रा निर्धारित तिथि तक अपने प्रवेश कराकर बकाया शुल्क जमा नहीं करेंगे तो उनका प्रवेश स्वत: ही निरस्त हो जायेगा।
2. अधोलिखित कारणों से किसी भी छात्रछात्रा का प्रवेश वर्जित होगा। यदि किसी कारणवश उसे प्रवेश दे दिया होगा तो भी निरस्त कर दिया जायेगा।
(क) अन्य किसी महाविधालय द्वारा निष्कासन।
(ख) इस महाविधालय में किसी भी प्रकार की अनुशासनहीनता एवं दुव्र्यवहार का दोषी पाया जाना।
(ग) छात्रछात्रा पर आर्इपीसी (भारतीय दण्ड विधान) अथवा सी.आर. पी.सी. धाराओं के अन्तर्गत कोर्इ मुकदमा अथवा मारल टरपीटयूट के जुर्म के लिए किसी न्यायालय द्वारा दोषी ठहराया जाना। किसी शिक्षक, छात्र अथवा कर्मचारी के साथ दुव्र्यवहार के कारण निश्ष्कासित किया जाना।
नोट : उपयर्ुक्त नियमों के अतिरिक्त समय स्थान पर डा. बी.आर. अम्बेडकर विश्वविधालय प्रसारित प्रवेश नियम भी लागू होंगे।
शिष्टाचार एवं अनुशासन संबंधी नियम
1. प्रत्येक विधार्थी को अपना परिचय-पत्र अपने साथ रखना आवश्यक होगा जिसको महाविधालय के किसी भी अधिकारी या कर्मचारी के द्वारा मांगे जाने पर प्रस्तुत करना होगा।
2. महाविधालय में आ जाने पर कोर्इ भी छात्रछात्रा निर्धारित समय-सारिणी के आधार पर अथवा 2 बजे से पूर्व बिना लिखित अनुमति के बाहर नहीं जा सकेगासकेगी।
3. स्नातक स्तर के छात्रछात्राओं को प्रतिदिन महाविधालय द्वारा निर्धारित शोभनीय गणवेश में ही महाविधालय में आना अपेक्षित होगा। किसी प्रकार की छूट अनुमन्य नहीं है।
4. प्रत्येक विधार्थी अपने खाली घण्टों (रिक्त कालाशों) के समय में बरामदें व कार्यालय के पास खडे़ नहीं होगें। दुव्र्यवहार, कार्य में लापरवाही और अनुत्तर कार्य करने पर अनुशासनात्मक कार्यवाही की जा सकती है। गंभीर आरोप सिद्ध होने पर विधार्थी को महाविधालय से निश्ष्कासित भी किया जा सकता है। अत: वाचनालय में बैठकर अपने समय पर सदुपयोग कर ज्ञानार्जन करें।
5. प्रत्येक साइकिलमोटरसाइकिल आदि वाहनों से आने वाले छात्रछात्राएं वैन स्टैण्ड पर ही अपना वाहन खड़ा करेगे/करेंगी।
6. कार्यालय प्रांगण में छात्रछात्राओं में आपसी वार्तालाप बहुत संयत एवं मृदु शैली में होना चाहिए। यदि कोर्इ भी छात्रछात्रा महाविधालय प्रांगण में कोर्इ अपशब्द बोलता है तो उस पर अनुशासनात्मक लिखित कार्यवाही कर प्रवेश निरस्त कर दिया जायेगा।
महाविधालय में उपसिथति
डा. भीमराव अम्बेडकर विश्वविधालय के नियमानुसार परीक्षा प्रवेश के लिए प्रत्येक विधार्थी (छात्रछात्राओं) को पूरे सत्र के कुल व्याख्यानों में से 75 प्रतिशत उपसिथति अनिवार्य होगी। उपसिथति कम होने की दशा में विधार्थी विश्वविधालय की परीक्षा में समिमलित नहीं हो सकेगासकेगी।
शुल्क संबंधी सूचना
उत्तर प्रदेश शासन के शिक्षा विभाग एवं विश्वविधालय द्वारा निर्धारित शुल्क ही विधार्थियों द्वारा महाविधालय में देय होगा। प्रत्येक विधार्थी के लिए शुल्क लिपिक द्वारा हस्ताक्षरित रसीद को अवश्य लें। महाविधालय शुल्क आदि प्रत्येक रसीद को सुरक्षिज्ञत रखना विधार्थी का प्रमुख उत्तरदायित्व होगा।
1. डा. भीम राव अम्बेडकर विश्वविधालय का परीक्षा शुल्क विश्वविधालय के नियमानुसार देय होगा।
2. जो शुल्क वापस नहीं किया जायेगा।
3. अनुसूचित जाति-जनजाति आदिम जनजाति के छात्रों को शुल्क राज्य सरकार के द्वारा प्रदान की जाती है।
शुल्क मुकित
महाविधालय में निर्धन व मेधावी छात्रछात्राओं को पूर्ण एवं अर्धशुल्क सचिव कोष से मुक्त किया जाता है। शुल्क मुकित निम्नलिखित नियमों के अनुसार शुल्क मुकित समिति की संस्तुति के आधार पर प्रदान की जायेगी।
1. शुल्क मुकित के लिए निर्धारित आवेदन पत्र नियत तिथि तक कार्यालय में जमा करना होगा।
2. मेधावी छात्रछात्राएं ही शुल्क मुकित प्राप्त कर सकेगेंसकेंगी। जिन विधार्थियों ने गत परीक्षा में 80 प्रतिशत अथवा इससे अधिक अंक प्राप्त किये हैं वे मेधावी श्रेणी के विधार्थी माने जायेंगे।
3. जिन निर्धन विधार्थियों को निर्धनता का प्रमाण पत्र प्रस्तुत करने पर ही योग्यता के आधार पर शुल्क मुकित प्रदान की जायेगी।
4. खेलकूद में राज्य स्तरीय उपलबिध प्राप्त करने वाले विधार्थियों को महाविधालय की प्रबन्ध समिति की ओर से कुछ शुल्क मुकित सहायता प्रदान की जायेगी।
5. अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के विधार्थियों को जिन्हें राजकीय छात्रवृतित मिलती है ऐसे विधार्थियों को शुल्क मुकित प्रदान नहीं की जायेगी।
6. जो छात्रछात्राएं किसी अन्य विधालय से इस वर्ष महाविधालय में आयेंगी और जिन्हें विधालय में किसी प्रकार की शुल्क मुकित प्रदान की जायेगी ऐसे विधार्थी अपने आवेदन पत्र के साथ उस विधालय के प्रधानाचार्यप्रधानाचार्या का शुल्क मुकित प्रमाण पत्र अनिवार्य रूप से संलग्न करना होगा।
7. मेधावी व निर्धन छात्रछात्राओं को शुल्क मुकित के लिए साक्षात्कार हेतु शुल्क मुकित महाविधालय समिति के समक्ष निशिचत तिथि पर उपसिथत होना अनिवार्य है। अनुपसिथति होने की दशा में आवेदन पर विचार नहीं किया जायेगा।
8. शुल्क मुकित हेतु अपूर्ण आवेदन निरस्त कर दिये जायेंगे।
आय सम्बन्धी प्रमाण पत्र
(मूल प्रतिलिपि ही प्रस्तुत करें)
आय का स्रोत
1. मसिक वेतन (महंगार्इ भत्ते सहित)
2. व्यवसाय
3. खेती एवं व्यवसाय
सम्बनिधत अधिकारी
तत्सम्बन्घी आहरण पदाधिकारीराजपत्रित अधिकाकरीअन्ध्य अधिकारी इनकम टैक्स रिटर्ननगरपालिकाटाउन एरियाग्राम सभा के अधिकृत अधिकारी मालिक दुकान किराया रसीदठेकेदार तहबाजारीतहसीलदारकानूनगोब्लाक प्रमुख

भारतीय कपिल मुनि स्नातकोत्तर महाविद्यालय
करपिया - बेवर मैनपुरी
205301

05673-263054
bkmc1990@gmail.com