Login Here

Pupils Login Form

 



विश्वविद्यालय का संक्षिप्त परिचय

डॉ बी आर अम्बेडकर विश्वविद्यालय की नींव रेव कैनन ऐडवर्ड्स की तरह उत्साही शिक्षाविदों के एक बैंड के व्यस्त प्रयासों का एक परिणाम के रूप में, 1 जुलाई 1927 पर रखी गई थी

आगे पढ़ें »

महाविद्यालय का संक्षिप्त परिचय

परम विख्यात महान तेजस्वी प्रतापी महर्षि कपिलमुनि के सुनाम पर संचालित भारतीय महाविधालय की आधार शिला व सुस्थापना का स्वपन महाविधालय संस्थापक एवं सचिवप्रबंधक..

आगे पढ़ें »

क्यों तुम्हें हमारे साथ अध्ययन करना चाहिए

विधार्थियों के स्वाध्याय हेतु पुस्तकालय की उचित व्यवस्था है जिसमें विधार्थी रिक्त कक्षाओं में एकान्तचित होकर स्वाध्याय करते हैं। पुस्तकालय में विधार्थियों के विषय संबंधी व प्रतिस्पर्धा..

आगे पढ़ें »

शिक्षा और छात्र अनुभव

शिक्षा प्रणालियों शिक्षा और प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए, अक्सर छात्रों और युवाओं के लिए स्थापित की जाती है एक पाठ्यक्रम (curriculum) छात्रों को क्या पता होना चाहिए,

आगे पढ़ें »

अंतर्राष्ट्रीय छात्र

विदेशी छात्रों को तभी प्रवेश दिया जायेगा जबकि उनके पास स्टूडेण्ट वीसा हो और भारत सरकार के गृह मंत्रालय द्वारा प्रदेश सरकार के विदेशी रजिस्टे्रशन विभाग द्वारा स्वीकृत हो।

आगे पढ़ें »

अनुशासन

अनुशासन का जीवन में विशेष महत्व है। विद्यार्थियों में आत्मसंयम व शिष्टाचार की भावना का विकास कर एक अच्छा विद्यार्थी बनाने के लिए महाविद्यालय में अनुशासन विभाग भी है। अनुशासन अधिकारी के द्वारा महाविद्यालय में परिचय-पत्र किसी भी समय देखा जा सकता है जिसको प्रतिदिन महाविद्यालय में लाना अनिवार्य है ।
नोट: परिचय-पत्र की सुरक्षा का सम्पूर्ण उत्तरदायित्व छात्र/छात्राओं का ही होगा । परिचय-पत्र खो जाने पर दूसरा नवीन परिचय-पत्र (परिचय-पत्र शुल्क) जमा करने पर ही मिल सकेगा ।
महाविद्यालय में शिष्टाचार एवं अनुशासन पर विशेष रूप से ध्यान दिया जाता है । प्रत्येक विद्यार्थी को अपना परिचय-पत्र अपने साथ रखना आवश्यक होगा जिसको महाविद्यालय के किसी भी अधिकारी या कर्मचारी के द्वारा मांगे जाने पर प्रस्तुत करना होगा ।
महाविद्यालय में आ जाने पर कोई भी छात्र/छात्रा निर्धारित समय-सारिणी के आधार पर अथवा 2.00 बजे से पूर्व बिना लिखित अनुमति के बाहर नहीं जा सकेगा/सकेगी ।
स्नातक स्तर के छात्र/छात्राओं को प्रतिदिन महाविद्यालय द्वारा निर्धारित शोभनीय गणवेश में ही महाविद्यालय में आना अपेक्षित होगा । किसी प्रकार की कोई छूट अनुमन्य नहीं है । सभी छात्राएं सफेद यूनीफार्म में ही आयेगी तथा छात्रों को सफेद शर्ट/स्लेटी पैंट में तथा काले जूते आना अनिवार्य होगा । महाविद्यालय द्वारा निर्धारित गणवेश में न आने पर महाविद्यालय से वापस भेज दिया जायेगा ।
स्नातकोत्तर स्तर पर सफेद कुर्ता व सलवार के साथ कत्थई दुपट्टा छात्राओं के लिए तथा छात्रों के लिए कत्थई पैन्ट, सफेद शर्ट, काले जूते अनिवार्य होगे ।
महाविद्यालय के अधिकारियों एवं कर्मचारियों से शालीनतापूर्वक वार्तालाप एवं शिष्ट व्यवहार करना सर्वथा अपेक्षित है ।
महाविद्यालय को साफ एवं स्वच्छ रखना विद्यार्थी का निजी तथा परम कर्तव्य है । कोई भी विद्यार्थी महाविद्यालय के फर्श व दीवारों आदि को गन्दा न करे । अगर दीवारों आदि को गन्दा करते हुए कोई भी छात्र पकड़ा जाता है तो उस पर अनुशासनात्मक कार्यवाही की जायेगी ।
महाविद्यालय की सुरक्षा, स्वच्छता व सम्पत्ति के सदुपयोग तथा रखरखाव का भार भी विद्यार्थियों पर ही है । पेड़, पौधों आदि की सुरक्षा करना भी प्रमुख कर्तव्य है । यदि कोई विद्यार्थी अथवा बाहरी व्यक्ति उसे हानि पहुंचाएं तो एक प्रबुद्ध विद्यार्थी होने के नाते उसकी सूचना शीघ्र ही कार्यालय में दी जाये ।
प्रत्येक विद्यार्थी अपने खाली घण्टों (रिक्त कालांशों) के समय में बरामदे व कार्यालय के पास खड़े नहीं हांेगे । दुव्र्यवहार, कार्य में लापरवाही और अनुत्तरदायित्वपूर्ण कार्य करने पर अनुशासनात्मक कार्यवाही की जा सकती है । गम्भीर आरोप सिद्ध होने पर विद्यार्थी को महाविद्यालय से निष्कासित भी किया जा सकता है । अतः वाचनालय में बैठकर अपने समय का सदुपयोग कर ज्ञानार्जन करें ।
स्कूटर, साइकिल, मोटर साइकिल आदि वाहनों से आने वाले छात्र/छात्रायें ट।छ ैज्।छक् पर ही अपना वाहन खड़़ा करेंगे/करेंगी । अन्य स्थान पर खड़ा करने पर अनुशासन हीनता मानी जायेगी ।
महाविद्यालय प्रागंण में छात्र/छात्राओं मे आपस मे वार्तालाप बहुत संयत एवं मृदु शैली में होना चाहिये । यदि कोई भी छात्र किसी भी छात्र या छात्रा तथा महाविद्यालय स्टाफ से कोई अपशब्द बोलता है तो उस पर अनुशासनात्मक लिखित कार्यवाही कर प्रवेश निरस्त कर दिया जायेगा ।

भारतीय कपिल मुनि स्नातकोत्तर महाविद्यालय
करपिया - बेवर मैनपुरी
205301

05673-263054
bkmc1990@gmail.com